× होम भारत राज्य खेल एंटरटेनमेंट लाइफस्टाइल क्राइम विजुअल स्टोरीज टेक ज्ञान धर्म दुनिया
Mohammed Siraj क्रिकेट के इतिहास में हमेशा याद किए जाएंगे, हैदराबाद की ईदगाह से टीम इंडिया तक का सफर जानिए
29 साल के मोहम्मद सिराज का क्रिकेट सफर काफी मुश्किलों भरा रहा है और टीम इंडिया तक का उनका सफर आसान नहीं रहा. सिराज बेहद साधारण परिवार से हैं. सिराज का जन्म साल 1994 में हैदराबाद के फर्स्ट लांसर इलाके में एक किराए के घर में हुआ था.

एशिया कप 2023 का फाइनल मैच रविवार को भारत और श्रीलंका के बीच खेला गया. इस दिन भारतीय गेंदबाजों ने जो चमत्कार दिखाया वह इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया. भारत की ओर से गेंदबाजी करते हुए मोहम्मद सिराज ने एक ही ओवर में 4 श्रीलंकाई बल्लेबाजों को पवेलियन भेज दिया. सिराज से पहले बुमराह ने एक ओपनर बल्लेबाज को आउट किया था. वहीं सिराज ने अपने अगले ओवर में दो और खिलाड़ियों को पवेलियन भेजकर पूरी श्रीलंकाई टीम को आखिरी सांस लेने पर मजबूर कर दिया. कुल मिलाकर श्रीलंका की हालत ऐसी रही कि पूरी टीम महज 50 रन बनाकर पवेलियन लौट गई. इसका श्रेय मोहम्मद सिराज को जाता है. जिन्होंने अपने करियर की शुरुआत हैदराबाद के ईदगाह से की थी.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में यह पहला मौका था जब किसी भारतीय गेंदबाज ने एक ही ओवर में चार विकेट लिए। चार विकेट लेने के बाद भी सिराज नहीं रुके. उन्होंने विपक्षी टीम के कप्तान दासुन शनाका और कुसल मेंडिस को भी बाहर भेज दिया. शनाका गेंद की मूवमेंट में गलती करके बोल्ड हुए जबकि मेंडिस एक तेज आउट स्विंगर की गेंद पर बोल्ड हुए.

आसान नहीं था टीम इंडिया का सफर 

29 साल के मोहम्मद सिराज का क्रिकेट सफर काफी मुश्किलों भरा रहा है और टीम इंडिया तक का उनका सफर आसान नहीं रहा. सिराज बेहद साधारण परिवार से हैं. सिराज का जन्म साल 1994 में हैदराबाद के फर्स्ट लांसर इलाके में एक किराए के घर में हुआ था। सिराज के पिता मोहम्मद गौस ऑटो-रिक्शा चलाते थे, जबकि उनकी मां एक गृहिणी थीं। सिराज के बड़े भाई इस्माइल अपने पिता की मदद करते थे.

हैरान करने वाली बात ये थी कि सिराज ने कभी भी औपचारिक तौर पर क्रिकेट की कोचिंग नहीं ली. अपने खेल करियर के शुरुआती दिनों में, वह स्थानीय ईदगाह मैदान पर कैनवास गेंद से नंगे पैर गेंदबाजी करते थे. उन्होंने साल 2015 में क्रिकेट बॉल से गेंदबाजी की शुरुआत की थी. वैसे सिराज पहले बल्लेबाज बनना चाहते थे. हालांकि, बाद में उन्होंने गेंदबाजी में अच्छा प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. उन्होंने स्थानीय टूर्नामेंटों में खेलकर अपनी प्रतिभा को निखारा.

आईपीएल 2017 में सिराज 2.6 करोड़ रुपये में बिके थे

सिराज की मेहनत रंग लाई और उन्होंने 2015-16 रणजी सीजन में हैदराबाद के लिए प्रथम श्रेणी में डेब्यू किया. सिराज ने अपने दूसरे रणजी सीजन में हैदराबाद के लिए 9 मैचों में 41 विकेट लिए. इस शानदार प्रदर्शन के कारण उन्हें ईरानी ट्रॉफी के लिए शेष भारत टीम में चुना गया। जुलाई 2017 में उन्हें साउथ अफ्रीका दौरे के लिए इंडिया ए टीम में भी चुना गया था. दमदार प्रदर्शन को देखते हुए रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने आईपीएल 2017 से पहले सिराज को 2.6 करोड़ रुपये की कीमत पर साइन किया था.

सिराज ने उसी साल नवंबर महीने में राजकोट में न्यूजीलैंड के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया था. टी20 डेब्यू के बाद सिराज ने अपने परिवार के लिए एक घर खरीदा. उन्होंने यह भी सुनिश्चित किया कि उनके पिता कभी भी ऑटो-रिक्शा नहीं चलाएंगे। फिर सिराज ने जनवरी 2019 में एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना वनडे इंटरनेशनल डेब्यू किया।

साल 2018 में अपने दिवंगत पिता का सपना पूरा किया

सिराज के पिता का सपना था कि उनका बेटा टेस्ट क्रिकेट खेले. मोहम्मद गौस का मानना था कि असली क्रिकेट टेस्ट मैच है. सिराज ने अपने दिवंगत पिता का सपना साल 2018 में पूरा किया, जब वह 26 दिसंबर 2020 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न टेस्ट मैच में उतरे। उस डेब्यू टेस्ट मैच में सिराज ने कुल पांच विकेट लेकर सभी को प्रभावित किया। इसके बाद सिराज ने गाबा टेस्ट मैच में दूसरी पारी में पांच विकेट लेकर ऑस्ट्रेलिया की ऐतिहासिक सीरीज जीत में अहम भूमिका निभाई। सिराज गाबा में एक पारी में 5 विकेट लेने वाले 5वें भारतीय गेंदबाज बने। जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 2-1 से हराकर बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी जीती थी. उस वक्त सिराज की मां, भाई और करीबी रिश्तेदार भावुक हो गए.

पिता का सपना था कि मैं भारत के लिए खेलूं- सिराज

उस ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान मोहम्मद सिराज ने अपने पिता को खो दिया था. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने सिराज को स्वदेश लौटने का विकल्प दिया था, लेकिन उन्होंने भारतीय टीम के साथ ही रहने का फैसला किया। सिराज ने कहा था, 'मेरे पिता ने मुझे सबसे ज्यादा सपोर्ट किया। ये मेरे लिए बहुत बड़ी क्षति है. उनका सपना था कि मैं भारत के लिए टेस्ट खेलूं और अपने देश का नाम रोशन करूं, मैं अपने पिता का सपना पूरा करना चाहता था.

अपनी पहली टेस्ट सीरीज में यादगार प्रदर्शन के बाद सिराज ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। सिराज ने धीरे-धीरे तीनों फॉर्मेट में अपनी पैठ बनानी शुरू कर दी. गाबा टेस्ट खत्म होने के बाद सिराज अब टेस्ट से ज्यादा वनडे इंटरनेशनल में धमाकेदार प्रदर्शन कर रहे हैं. इसी साल जनवरी में सिराज आईसीसी वनडे रैंकिंग में पहले स्थान पर पहुंचने में सफल रहे थे.

ऐसा है सिराज का अंतरराष्ट्रीय रिकॉर्ड

मोहम्मद सिराज ने भारत के लिए अब तक 21 टेस्ट, 29 वनडे और आठ टी20 मैच खेले हैं. टेस्ट मैचों में सिराज ने 30.23 की औसत से 59 विकेट लिए हैं. इस दौरान पारी में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 60 रन देकर 5 विकेट था. वनडे इंटरनेशनल में सिराज के नाम 19.11 की औसत से 53 विकेट हैं. वनडे में सिराज का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 21 रन देकर 6 विकेट है. सिराज ने टी20 इंटरनेशनल में कुल 11 विकेट लिए हैं. इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की बात करें तो सिराज ने आरसीबी के लिए कुल 79 मैचों में 111 विकेट लिए हैं। अब सिराज का लक्ष्य आगामी वनडे विश्व कप में दमदार प्रदर्शन करना होगा.

Advertisment
सम्बंधित ख़बरें
Copyright © 2022-23 . Bharat24 All rights reserved